Tuesday, August 22, 2017

Grandma's Stories--1038--Detective Dora !! { 56 }

Mrs. Suvasini Sharma was very fond of imported things.Her Husband Mr.Rohit Sharma was a businessman.He could not earn much but he was able to provide all comforts to his wife and daughter.His daughter Preeti was very beautiful and she had just passed her graduation from university.Sheetal was Mrs.Suvasini's collage friend and one day she met her in a mall after many years.Suvasini came to know that Sheetal is working in Dubai and he is here for one month.Suvasini was impressed and invited her for lunch next day.
Next day Sheetal arrived at right time.Suvasini cooked very delicious Lunch for her.Suhasini introduced her husband and her daughter to Sheetal.She also said," If you know any good boy working there Please tell us.I want Preeti to get marry to a person living in foreign country."
Sheetal already knew her craze about foreign countries and imported things.She said ," Ok I will let you know"
After three days Suvasini received a phone call from Sheetal she said ," One of my friends Subhash  is working there as PS to Sheikh Subhaan and they are coming here and will stay for a month.I will arrange your meeting with him,He is coming with Sheikh Subhaan.
Sheikh Subhaan is like his elder brother and treats Subhash like his younger brother.You don't need to spend any money for marriage if the marriage gets fixed.
Suvasini was very happy.She invited them.She saw Subhash and liked him.Subhash was smart.He liked Preeti and the day for marriage was decided after a week.
Mr.Rohit Sharma found it a haste step,Preeti also disliked Sheikh's touch,He used to say," You are beautiful girl and perfect partner."Mr.Rohit Sharma decided to inquire about him.So they called Dora,they had her number.
She listened to him and then asked him to meet some where.Mr.Rohit Sharma said," Subhash and Sheikh used to talk in arabic.Dora sent a girl Nimmi for house hold work who knew that language and just after two hours she called Dora and said," Their plan is very dangerous.Actually Sheikh is planning to get married with Preeti"Subhash is just his servant.He is paying big money to Subhash and Sheetal for making this trap.
Dora asked her to stay and watch.Next day was marriage day.The Groom was sitting near Bride wearing wedding turban { Sehra}his face was hiding behind.
Dora came their as guest of Mr.Rohit Sharma,Said to Mr.Sharma," I am feeling hot,Please could you turn on that table fan." Mr.Rohit Sharma smiled and turned it on.The Wedding Turban of groom blows off in the air and every body screamed,instead of Subhash ,Sheikh was sitting their.Suvasini was shocked.Police men quickly arrested Sheikh,Subhash and Sheetal.Criminal case was filed against them.

GANPATI BAPPA MORAYA !! { MARATHI }



काल रात्री गणपती बाप्पा
होता टिळकांशी भांडत,
आपल्या अडचणींची कैफियत
होता पोटतिडकीने मांडत ||

देवघरातून तू मला
बाहेर का आणलंस ?
तुमच्या लाडक्या देवाचं कौतुक
कशाला  चार-चौघात मांडलंस ?

गायलास तू सुरुवातीला
ताल-सुरात आरत्या,
केलीस साधी फुलांची आरास
भोवती रंगीत बत्त्या.

खूप मस्त छान असायचं
आनंद वाटायचा येण्यात,
सुख-शांती-समाधान मिळे
चैतन्य तुला देण्यात.

दहा दिवस उत्सवाचे म्हणजे
असे, दिव्यत्वाची रंगत...
काल रात्री गणपती बाप्पा
होता,  टिळकांशी  भांडत ||

पूर्वी प्रवचन, कीर्तन, गायनाने
मंगलमयी वाटायचे,
प्रबोधक, उद्बोधक  भाषणांनी
विचार उंची गाठायचे.

आत्ता सारखा हिडीसपणा
मुळीच नव्हता तेव्हा,
शांताबाईच्याच नावाचा
आता अखंड धावा.

पीतांबर, शेला, मुकुट
हे माझे खरे रुप,
शर्ट, पँट, टोपी, पागोटे
धिगाण्याला फक्त  हुरूप.

शाडूची माती... नैसर्गिक रंग
गायब आता झाले कुठे ?
लायटिंग केलेल्या देखाव्याने
मला दरदरून घाम फुटे !

श्रध्दा, भक्तीभाव, आदर मनीचा
गेला ना रे सांडत...
काल रात्री गणपती बाप्पा
होता,  टिळकांशी भांडत ||

माणसां-माणसांनी एकत्र यावे
एकमेकांना समजुन घ्यावे,
देव-घेव विचारांची करतांना
सारे कसे एक व्हावे.

जातीभेद नसावा...
बंधुभाव असावा,
सहिष्णुतेच्या विचारांनी
नवा गाव वसावा.

मनातला विचार तुझ्या
खरंच होता मोठा,
पण, आज मात्र खऱ्या विचारांनाच
बघ मिळालाय फाटा.

पूर्वी विचारांबरोबर असायची
खाण्यापिण्याचीही रेलचेल,
आता मात्र देखाव्यांमागे
दडलेला असतो काळा खेळ.

पूर्वी बदल म्हणून असायचे
पोहे-चिवडा-चहा-काॅफी...
साग्रसंगीत जेवणा सोबत
लाडू-मोदक-पेढे-बर्फी.

आता, रात्री भरले जातात
पडद्यामागे, मद्याचे पेले
डी. जे. वर नाचत असतात
माजलेले दादांचे चेले.

नको पडूस तू असल्या फंदात
तेव्हाच मी होतो सांगत...
काल रात्री गणपती बाप्पा
होते,  टिळकांशी भांडत ||

कशासाठी उत्सव असा
सांग ना रे  बांधलास ?
देवघरातून गल्लोगल्ली
डाव माझा मांडलास !

दहा दिवस कानठळ्यांनी
होतो मला आजार,
व्यवहारी दुनिया इथली,
इथे चालतो लाखोंचा बाजार.

रितीरिवाज, आदर-सत्कार,
मांगल्याचा नाही पत्ता,
देवघरा ऐवजी माझा
रस्त्यावरती समजतो कट्टा.

जुगार-दारु-सट्टा-मट्टा -
अनैतिकतेला येतो ऊत,
देवा ऐवजी दैत्याचेच मग
मानेवरती चढते भूत.

सामाजिक बाजू सोडून सुटतो
राजकारणालाच इथे पेव,
गौरी-गणपती सण म्हणजे -
गैरव्यवहाराची ठेव-रेव.

नको रे बाबा, नको मला हा
मोठेपणाचा तुझा उत्सव,
मला आपले तू माझ्या जागी
परत एकदा नेऊन बसव.

कर बाबा कर माझी सुटका
नको मला ह्यांची संगत...
काल रात्री गणपती बाप्पा
होता, टिळकांशी भांडत ||

आपल्या अडचणींची कैफियत
होता पोटतिडकीने  मांडत,
काल रात्री गणपती बाप्पा
होता,  टिळकांशी भांडत ||

Monday, August 21, 2017

Grandma's Stories --1037--Detective Dora !! { 55 }

In insurance office ,a man Shravan Kumar and a lady Mrs. Kamini Devi were sitting.They were their to claim the Insurance amount of Rs.2 Crores of their dead relative. They said he was Savitri's husband and Shravan's elder brother.He died because of heart failure.The officer Mr.Sharma gave them some forms to fill and asked them to bring some important required documents.The officer didn't believe they were the real successors of that man,who was depositing the premium amount sincerely.He asked them to come after fifteen days.
After fifteen days both of them came and submitted the required documents,including the Doctor's death Certificate,He then didn't have any reason to stop them but he said "Ok You can come on Monday to collect your cheque."
He called Dora as he had that number and told her about his doubt.Dora and Rohan were that time already working on an Insurance case.A lady Savitri Devi and her son Deepak arrived to the Police Station and complained .Savitri said," My husband expired from heart attack.He had an insurance policy of Rs.2 Crores,but when they inquired ,they came to know that all the papers were already submitted. Deepak was very intelligent so he decided to complain in the Police station, By chance Dora and Rohan were in the Police Station and She thought there must be connection in both the cases.
It was Sunday,She called Mr.Sharma and asked the details.Mr.Sharma forwarded the details with photographs to Dora's phone.That Savitri Devi was different.She asked Mr.Sharma not to give cheque to that Savitri Devi.
On Monday Dora sent Rohan out side the insurance office to watch the activities out side the office.Two Policemen were also hidden there.Dora her self was sitting in a restaurant there.They saw a cunning type of man talking to the fake Savitri Devi and Shravan Kumar.
She pointed towards them and the two Policemen caught the three people.They were taken to the Police station and interrogated hard.They confessed.
The Cunning man was Kulbhushan,he hired Kamini and Rajesh for Savitri and Shravan's roles,he paid big amount for that.He managed a false death certificate from Dr.Samant.He wanted to take the cheque of Rs.2 Crores.He was criminal minded man.
Police arrested the Doctor also,case was filed against all of them.
The real Savitri Devi got the cheque and now she didn't have any problem for her Son's higher education.  


Dharm & Darshan !! { 401 } GURUBANI !!


'गुरुबाणी' में परम पिता 'परमात्मां' के लिये प्रयोग किये गए 16 "नाम"

हरी                -  50 बार
राम                - 1758 बार
प्रभू                -  1314 बार
गोबिन्द            -  204 बार
मुरारी              -  42 बार
ठाकुर              -  238 बार
गोपाल            -  109 बार
परमेशर          -  16 बार
जगदीश          -  37 बार
कृशन              -  8 बार
नाराईण          -  39 बार
वाहिगुरू          -  13 बार
मोहन              -  30 बार
 भगवान          -  41 बार
 निरंकार          -  36 बार
वाहगुरू          -  3 बार



1 सिक्ख = 1.25 लाख मुगल -- जानने के लिये पुरी पोस्ट पढ़ें

धरती की सबसे मंहंगी जगह सरहिंद (पंजाब), जिला फतेहगढ़ साहब में है, यहां पर 
श्री गुरुगोबिंद सिंह जी 
के छोटे साहिबजादों का अंतिम संस्कार
किया गया था।

सेठ दीवान टोंडर मल ने यह जगह 78000 सोने की मोहरे (सिक्के)
जमीन पर फैला कर मुस्लिम बादशाह से ज़मीन खरीदी थी।

सोने की कीमत के मुताबिक इस 4 स्कवेयर मीटर जमीन की कीमत
 2500000000 (दो अरब पचास
करोड़) बनती है।

दुनिया की सबसे मंहंगी जगह खरीदने का रिकॉर्ड आज सिख धर्म के इतिहास
 में दर्ज करवाया गया है। आजतक दुनिया के इतिहास में इतनी मंहंगी जगह कही 
नही खरीदी गयी।


दुनिया के इतिहास में ऐसा युद्ध ना कभी किसी ने पढ़ा होगा ना ही सोचा होगा,
 जिसमे 10 लाख की फ़ौज का सामना महज 42 लोगों के साथ हुआ था

और जीत किसकी होती है..??

उन 42 सूरमो की !

यह युद्ध 'चमकौर युद्ध' (Battle of Chamkaur) के नाम से भी जाना जाता है जो कि 
मुग़ल योद्धा वज़ीर खान की अगवाई में 10 लाख की फ़ौज का सामना सिर्फ 42
सिखों के सामने 6 दिसम्बर 1704 को हुआ जो की गुरु गोबिंद सिंह जी की 
अगवाई में तैयार हुए थे !


नतीजा यह निकलता है की उन 42 शूरवीर की जीत होती है जो की मुग़ल हुकूमत
 की नीव जो की बाबर ने रखी थी , उसे जड़ से उखाड़ दिया और भारत को
 आज़ाद भारत का दर्ज़ा दिया।

औरंगज़ेब ने भी उस वक़्त गुरु गोबिंद सिंह जी के आगे घुटने टेके और मुग़ल राज 
का अंत हुआ हिन्दुस्तान से ।

तभी औरंगजेब ने एक प्रश्न किया गुरुगोबिंद सिंह जी के सामने। कि यह कैसी फ़ौज तैयार की
 आपने जिसने 10 लाख की फ़ौज को उखाड़ फेंका।

गुरु गोबिंद सिंह जी ने जवाब दिया

"चिड़ियों से मैं बाज लडाऊं , गीदड़ों को मैं शेर बनाऊ।"
"सवा लाख से एक लडाऊं तभी गोबिंद सिंह नाम कहाउँ !!"


गुरु गोबिंद सिंह जी ने जो कहा वो किया, जिन्हे आज हर कोई शीश झुकता है
 , यह है हमारे भारत की अनमोल विरासत जिसे हमने कभी पढ़ा ही नहीं !
चमकौर साहिब की जमीन आगे चलकर एक सिख परिवार ने खरीदी उनको 
इसके इतिहास का कुछ पता नहीं था । इस परिवार में आगे चलकर जब उनको 
पता चला के यहाँ  गुरु गोबिंद सिंह जी के दो बेटे शहीद हुए है तो उन्हों ने यह 
जमीन गुरु जी के बेटो की यादगार ( गुरुद्वारा साहिब) के लिए देने का मन बनाया
 ....जब अरदास करने के समय उस सिख से पूछा गया के अरदास में उनके लिए
 गुरु साहिब से क्या बेनती करनी है ....

तो उस सिख ने कहा के गुरु जी से बेनती करनी है के मेरे घर कोई औलाद ना हो ताकि
 मेरे वंश में कोई भी यह कहने वाला ना हो के यह जमीन मेरे बाप दादा ने दी है ।

वाहेगुरु....और यही अरदास हुई और बिलकुल ऐसा ही हुआ
 उन सिख के घर कोई औलाद नहीं हुई......

अब हम अपने बारे में सोचे 50....100 रु. दे कर क्या माँगते है । वाहे गुरु....

वाहेगुरु जी का खालसा,
    वाहेगुरु जी की फतेह  जी

Dharm & Darshan !! { 400 } Mrityu Ka Bhay !!

 जब मृत्यु का भय सताये तब इस कथा को पढ़ें एवं भविष्य में सदैव स्मरण रखें÷

("मृत्यु से भय कैसा ??")....

    ।।सुन्दर दृष्टान्त ।।

राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुनातें हुए जब शुकदेव जी महाराज को छह दिन बीत गए और तक्षक ( सर्प ) के काटने से मृत्यु होने का एक दिन शेष रह गया, तब भी राजा परीक्षित का शोक और मृत्यु का भय दूर नहीं हुआ।

अपने मरने की घड़ी निकट आती देखकर राजा का मन क्षुब्ध हो रहा था।तब शुकदेव जी महाराज ने परीक्षित को एक कथा सुनानी आरंभ की।राजन !
बहुत समय पहले की बात है, एक राजा किसी जंगल में शिकार खेलने गया। संयोगवश वह रास्ता भूलकर बड़े घने जंगल में जा पहुँचा।
उसे रास्ता ढूंढते-ढूंढते रात्रि पड़ गई और भारी वर्षा पड़ने लगी।

जंगल में सिंह व्याघ्र आदि बोलने लगे। वह राजा बहुत डर गया और किसी प्रकार उस भयानक जंगल में रात्रि बिताने के लिए विश्राम का स्थान ढूंढने लगा।रात के समय में अंधेरा होने की वजह से उसे एक दीपक दिखाई दिया।

वहाँ पहुँचकर उसने एक गंदे बहेलिये की झोंपड़ी देखी । वह बहेलिया ज्यादा चल-फिर नहीं सकता था, इसलिए झोंपड़ी में ही एक ओर उसने मल-मूत्र त्यागने का स्थान बना रखा था।अपने खाने के लिए जानवरों का मांस उसने झोंपड़ी की छत पर लटका रखा था।बड़ी गंदी, छोटी, अंधेरी और दुर्गंधयुक्त वह झोंपड़ी थी।उस झोंपड़ी को देखकर पहले तो राजा ठिठका, लेकिन पीछे उसने सिर छिपाने का कोई और आश्रय न देखकर उस बहेलिये से अपनी झोंपड़ी में रात भर ठहर जाने देने के लिए प्रार्थना की।

बहेलिये ने कहा कि आश्रय के लोभी राहगीर कभी-कभी यहाँ आ भटकते हैं।
मैं उन्हें ठहरा तो लेता हूँ, लेकिन दूसरे दिन जाते समय वे बहुत झंझट करते हैं।

इस झोंपड़ी की गंध उन्हें ऐसी भा जाती है कि फिर वे उसे छोड़ना ही नहीं चाहते और इसी में ही रहने की कोशिश करते हैं एवं अपना कब्जा जमाते हैं।ऐसे झंझट में मैं कई बार पड़ चुका हूँ।

इसलिए मैं अब किसी को भी यहां नहीं ठहरने देता।
मैं आपको भी इसमें नहीं ठहरने दूंगा।
राजा ने प्रतिज्ञा की कि वह सुबह होते ही इस झोंपड़ी को अवश्य खाली कर देगा।
उसका काम तो बहुत बड़ा है, यहाँ तो वह संयोगवश भटकते हुए आया है, सिर्फ एक रात्रि ही काटनी है।

बहेलिये ने राजा को ठहरने की अनुमति दे दी l
बहेलिये ने सुबह होते ही बिना कोई झंझट किए झोंपड़ी खाली कर देने की शर्त को फिर दोहरा दिया ।
राजा रात भर एक कोने में पड़ा सोता रहा।
सोने पर झोंपड़ी की दुर्गंध उसके मस्तिष्क में ऐसी बस गई कि सुबह उठा तो वही सब परमप्रिय लगने लगा।अपने जीवन के वास्तविक उद्देश्य को भूलकर वह वहीं निवास करने की बात सोचने लगा।वह बहेलिये से अपने और ठहरने की प्रार्थना करने लगा।

इस पर बहेलिया भड़क गया और राजा को भला-बुरा कहने लगा।राजा को अब वह जगह छोड़ना झंझट लगने लगा और दोनों के बीच उस स्थान को लेकर विवाद खड़ा हो गया । कथा सुनाकर शुकदेव जी महाराज ने परीक्षित से पूछा,"परीक्षित ! बताओ, उस राजा का उस स्थान पर सदा रहने के लिए झंझट करना उचित था ?"
परीक्षित ने उत्तर दिया," भगवन् ! वह कौन राजा था, उसका नाम तो बताइये ?
वह तो बड़ा भारी मूर्ख जान पड़ता है, जो ऐसी गंदी झोंपड़ी में, अपनी प्रतिज्ञा तोड़कर एवं अपना वास्तविक उद्देश्य भूलकर, नियत अवधि से भी अधिक रहना चाहता है।
उसकी मूर्खता पर तो मुझे आश्चर्य होता है।

"श्री शुकदेव जी महाराज ने कहा," हे राजा परीक्षित !
वह बड़े भारी मूर्ख तो स्वयं आप ही हैं।
इस मल-मूल की गठरी देह (शरीर) में जितने समय आपकी आत्मा को रहना आवश्यक था,
वह अवधि तो कल समाप्त हो रही है। अब आपको उस लोक जाना है, जहाँ से आप आएं हैं।
फिर भी आप झंझट फैला रहे हैं और मरना नहीं चाहते।
क्या यह आपकी मूर्खता नहीं है ?

राजा परीक्षित का ज्ञान जाग पड़ा और वे बंधन मुक्ति के लिए सहर्ष तैयार हो गए।
भाई - बहनों, वास्तव में यही सत्य है। जब एक जीव अपनी माँ की कोख से जन्म लेता है तो अपनी माँ की कोख के अन्दर भगवान से प्रार्थना करता है कि हे भगवन् !
मुझे यहाँ ( इस कोख ) से मुक्त कीजिए, मैं आपका भजन-सुमिरन करूँगा।

और जब वह जन्म लेकर इस संसार में आता है तो (उस राजा की तरह हैरान होकर ) सोचने लगता है कि मैं ये कहाँ आ गया ( और पैदा होते ही रोने लगता है ) फिर उस गंध से भरी झोंपड़ी की तरह उसे यहाँ की खुशबू ऐसी भा जाती है कि वह अपना वास्तविक उद्देश्य भूलकर यहाँ से जाना ही नहीं चाहता ।

अतः संसार में आने के अपने वास्तविक उद्देश्य को पहचाने और उसको प्राप्त करें ऐसा कर लेने पर आपको मृत्यु का भय नहीं सताएगा।

Saturday, August 19, 2017

Darwaze !!

......."दरवाजे "........

पहले दरवाजे नहीं खटकते थे
रिश्ते -नातेदार
मित्र -सम्बन्धी
सीधे
पहुँच जाते थे
रसोई तक
वही जमीन पर पसर
गरम पकौड़ियों के साथ
ढेर सारी बातें
सुख -दुःख का
आदान -प्रदान
फिर खटकने लगे दरवाजे
मेहमान की तरह
रिश्तेदार
बैठाये जाने लगे बैठक में
नरम सोफों पर
कांच के बर्तनों में
परोसी जाने लगी
घर की शान
क्रिस्टल के गिलास में
उड़ेल कर
पिलाई जाने लगी
हैसियत
धीरे -धीरे
बढ़ने लगा स्व का रूप
मेरी जिंदगी मेरी मर्जी
अपना कमरा
अपना मोबाइल ,लैपटॉप
कानों में ठुसे
द्वारपाल
पर कही न कही
स्नेहपेक्षी मन
प्रतीक्षा रत है
किसी अपने का
पर
अब
दरवाजे नहीं खटकते है ....

Friday, August 18, 2017

Proverbs !! { 2 }

Fault--You would spy faults in your eyes were out
A fault confessed is half redressed
Where no fault is ,there needs no pardon
He that commits a fault thinks every one speaks of it
Faults are thick where love is thin
Favour--Favour will as surely perish as life
Fear--He that fears the gallows shall never be a good thief
He that fears death lives not
Fear nothing but sin
There is no medicine for fear
He that fears you present will hate you absent
Feast--Merry is the feast making till we come to reckoning 
The company makes the feast
Either a feast or a fast
Feather--Fine feathers make fine birds
A feather in hand is better than a bird in the air
Feather by feather the goose is plucked 
Fed--He that is fed at another's may long ere he be full
He that gaped till he fed
Feed--Feeding out of course makes mettle out of kind
old praise dies unless you feed it
Feet--The cat would eat fish but would not wet her feet
Where your will is ready your feet are light
Fell--They never fell who never climbed
Few--Few words are best.